Breaking Newsउत्तर प्रदेशमुरादाबादस्वास्थ्य

वेस्ट यूपी में लम्पी स्किन बीमारी फैली : रोकथाम को शासन गंभीर, उत्तराखंड से पशुओं के लाने पर पाबंदी

Lumpy skin disease spread in West UP: Government is serious about prevention, ban on bringing animals from Uttarakhand

02 सितंबर 22, मुरादाबाद। पश्चिमी उप्र के पशुओं में फैल रही खतरनाक बीमारी लम्पी स्किन की रोकथाम के लिए शासन गंभीर हो गया है। अपर मुख्य सचिव पशुधन एवं मत्स्य डॉ. रजनीश दुबे तथा शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी कुणाल सिल्कू ने सर्किट हाउस सभागार में लम्पी स्किन बीमारी की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण की समीक्षा की। बीमारी खासतौर पर गोवंशीय पशुओं में फैल रही है। उन्होंने कहा है कि उत्तराखंड से पशुओं के आने पर रोक लगा दी गई है।

पश्चिमी उप्र के 22 जिलों में 19 हजार पशु बीमार

अपर मुख्य सचिव डॉ. रजनीश दुबे ने बताया कि वेस्ट यूपी में लम्पी स्किन बीमारी गोवंश में फैल रही है। यूपी के तीन मंडल में 22 जिले इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। बीमारी रोकने के लिए वैक्सीन लगाई जा रही है। उन्होंने दावा किया कि आगामी पांच दिन में शत प्रतिशत वैक्सीन का कार्य मुरादाबाद में पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि 19 हजार पशु अब तक इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। पशुओं के उपचार के साथ ही रोकथाम के प्रभावी उपाय किए जा रहे हैं। उत्तराखण्ड से आने वाले गौवंशीय एवं महेशवंशीय पशुओं का प्रदेश में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है। पशु चिकित्सकों की आॅनलाइन ट्रेनिंग करा दी गयी है तथा पशुधन प्रसार अधिकारियों तथा मुख्य पशु चिकित्सधिकारियों को रोकथाम हेतु दिशा-निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि यह रोग मनुष्य को नही होता है। संक्रमिक पशुओं को स्वस्थ पशुओं से अलग रखा जाये। सभी दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं और कंट्रोल रुम स्थापित कर निरंतर पशुओं की मानीटरिंग की जा रही है।

मुरादाबाद सर्किट हाउस में समीक्षा करते अपर मुख्य सचिव डॉ. रजनीश दुबे व स्थानीय अधिकारी।

पांच दिन में पूरा होगा वेक्सीन लगाने का कार्य

उन्होंने बताया कि पशु के बीमारी की चपेट में आने पर निकट के पशु चिकित्साधिकारी को सूचित करें। प्रभावित पशु को आश्रय स्थल पर आहार, पानी की व्यवस्था करें। पशुओं को गंदगी नाली आदि के पास न बांधे और पशुओं सदैव स्वच्छ पानी पिलाये तथा प्रभावित पशु के दूध को उबालकर प्रयोग करें। उन्होंने बताया कि रोगी पशु का दूध बछिया या बछडे को न पिलाये। उन्होंने बताया कि जांच हेतु मथुरा में भी लैब की शुरूआत की गई है। उन्होंने कहा कि मुरादाबाद मंडल में लम्पी बीमारी पांच पशु में फैल चुकी है जिसे रोकने के लिए रिंग वैक्सिनेशन का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा मुरादाबाद जिले में 50 हजार वैक्सीन आ चुकी हैं। सरकार की मंशा के अनुरूप गांव गांव जाकर लंपी की रोकथाम के लिए कार्य किया जाएगा। मंडलायुक्त आन्जनेय कुमार सिंह, जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह, मुख्य विकास अधिकारी आनन्द वर्धन, नगर आयुक्त संजय चैहान, डिप्टी कलेक्टर हर्षिता सिंह, परियोजना निदेशक सतीश प्रसाद मिश्र, समस्त जनपदों के मुख्य पशु चिकित्साधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button